Uttarakhand News : After Corona Curfew Chardham Yatra Starts Soon – उत्तराखंड : चरणबद्ध तरीके से चारधाम यात्रा को खोलने की तैयारी, देवस्थानम बोर्ड ने भेजा प्रस्ताव

0
103


न्यूज़ डेस्क, अमर उजाला, देहरादून
Published by: Nirmala Suyal Nirmala Suyal
Updated Sat, 12 Jun 2021 01:00 AM IST

सार
मई व जून महीने में चारधाम यात्रा में सबसे ज्यादा श्रद्धालु दर्शन के लिए आते थे। लेकिन वर्तमान में बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री धाम में बिना श्रद्धालुओं के सन्नाटा पसरा है।

चारधाम यात्रा
– फोटो : अमर उजाला फाइल फोटो

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

कोरोना की दूसरी लहर की रफ्तार धीमी पड़ने से देवस्थानम बोर्ड ने चारधाम यात्रा को चरणबद्ध तरीके से खोलने की तैयारी कर ली है। बोर्ड की ओर से शासन को यात्रा को सीमित संख्या में शुरू करने का प्रस्ताव भेजा गया है। इस पर स्वास्थ्य व आपदा प्रबंधन की अनुमति के बाद सरकार 15 जून के बाद फैसला ले सकती है। कोरोना महामारी के कारण लगातार दूसरे साल भी चारधाम यात्रा बंद पड़ी है। मई व जून महीने में चारधाम यात्रा में सबसे ज्यादा श्रद्धालु दर्शन के लिए आते थे। लेकिन वर्तमान में बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री धाम में बिना श्रद्धालुओं के सन्नाटा पसरा है। सिर्फ मंदिर में पुजारी, तीर्थ पुरोहित ही पूजा पाठ की परंपरा को निभा रहे हैं। पर्यटन उद्योग ही प्रदेश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ है। जिसमें चारधाम यात्रा प्रमुख है।कोरोना की दूसरी लहर काबू में आने से बीते वर्ष की तर्ज पर देवस्थानम बोर्ड ने चारधाम यात्रा को चरणबद्ध तरीके खोलने की तैयारी की है। जिसमें सबसे पहले चारधामों के समीपवर्ती गांवों के लोगों को ही दर्शन की अनुमति दी जाएगी। इसके बाद जिला, राज्य और बाहरी राज्यों के लोगों के लिए यात्रा शुरू की जा सकती है।
चारधामों में एक दिन में आने वाले श्रद्धालुओं की क्षमता के आधार पर यात्रा को सीमित संख्या में संचालित करने का प्रस्ताव देवस्थानम बोर्ड ने दिया है। साथ ही श्रद्धालुओं के लिए ई-पास के माध्यम से यात्रा की अनुमति दी जाएगी।बीते वर्ष की तर्ज पर चारधाम यात्रा को संचालित करने की तैयारी की गई है। बोर्ड की ओर से प्रस्ताव भेजा गया है। मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में बैठक होनी है। स्वास्थ्य और आपदा प्रबंधन विभाग की ओर से जिस तरह की अनुमति मिलेगी। उसी आधार पर यात्रा का संचालन किया जाएगा।- रविनाथ रमन, सीईओ, चारधाम देवस्थानम बोर्डपिछले साल एक जुलाई से शुरू हुई थी यात्राकोरोना की पहली लहर में लॉकडाउन के चलते चारधाम यात्रा एक जुलागई से शुरू हुई थी। सरकार ने सबसे पहले स्थानीय लोगों को दर्शन की अनुमति दी। इसके बाद राज्यों के लोगों के लिए यात्रा खोली गई। 25 जुलाई से प्रदेश के बाहर के लोगों को आरटीपीसीआर की निगेटिव जांच रिपोर्ट और पंजीकरण के साथ यात्रा में आने की अनुमति दी गई। बीते वर्ष 3.30 लाख श्रद्धालुओं ने कोरोना संक्रमण के बीच दर्शन किए।

विस्तार

कोरोना की दूसरी लहर की रफ्तार धीमी पड़ने से देवस्थानम बोर्ड ने चारधाम यात्रा को चरणबद्ध तरीके से खोलने की तैयारी कर ली है। बोर्ड की ओर से शासन को यात्रा को सीमित संख्या में शुरू करने का प्रस्ताव भेजा गया है। इस पर स्वास्थ्य व आपदा प्रबंधन की अनुमति के बाद सरकार 15 जून के बाद फैसला ले सकती है। 

कोरोना महामारी के कारण लगातार दूसरे साल भी चारधाम यात्रा बंद पड़ी है। मई व जून महीने में चारधाम यात्रा में सबसे ज्यादा श्रद्धालु दर्शन के लिए आते थे। लेकिन वर्तमान में बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री धाम में बिना श्रद्धालुओं के सन्नाटा पसरा है। सिर्फ मंदिर में पुजारी, तीर्थ पुरोहित ही पूजा पाठ की परंपरा को निभा रहे हैं। पर्यटन उद्योग ही प्रदेश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ है। जिसमें चारधाम यात्रा प्रमुख है।

कोरोना की दूसरी लहर काबू में आने से बीते वर्ष की तर्ज पर देवस्थानम बोर्ड ने चारधाम यात्रा को चरणबद्ध तरीके खोलने की तैयारी की है। जिसमें सबसे पहले चारधामों के समीपवर्ती गांवों के लोगों को ही दर्शन की अनुमति दी जाएगी। इसके बाद जिला, राज्य और बाहरी राज्यों के लोगों के लिए यात्रा शुरू की जा सकती है।

यात्रा को सीमित संख्या में संचालित करने का प्रस्ताव

चारधामों में एक दिन में आने वाले श्रद्धालुओं की क्षमता के आधार पर यात्रा को सीमित संख्या में संचालित करने का प्रस्ताव देवस्थानम बोर्ड ने दिया है। साथ ही श्रद्धालुओं के लिए ई-पास के माध्यम से यात्रा की अनुमति दी जाएगी।बीते वर्ष की तर्ज पर चारधाम यात्रा को संचालित करने की तैयारी की गई है। बोर्ड की ओर से प्रस्ताव भेजा गया है। मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में बैठक होनी है। स्वास्थ्य और आपदा प्रबंधन विभाग की ओर से जिस तरह की अनुमति मिलेगी। उसी आधार पर यात्रा का संचालन किया जाएगा।- रविनाथ रमन, सीईओ, चारधाम देवस्थानम बोर्डपिछले साल एक जुलाई से शुरू हुई थी यात्राकोरोना की पहली लहर में लॉकडाउन के चलते चारधाम यात्रा एक जुलागई से शुरू हुई थी। सरकार ने सबसे पहले स्थानीय लोगों को दर्शन की अनुमति दी। इसके बाद राज्यों के लोगों के लिए यात्रा खोली गई। 25 जुलाई से प्रदेश के बाहर के लोगों को आरटीपीसीआर की निगेटिव जांच रिपोर्ट और पंजीकरण के साथ यात्रा में आने की अनुमति दी गई। बीते वर्ष 3.30 लाख श्रद्धालुओं ने कोरोना संक्रमण के बीच दर्शन किए।

आगे पढ़ें

यात्रा को सीमित संख्या में संचालित करने का प्रस्ताव



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here