Mp Praised Dehradun Police In Accident Rescue Case, Letter Written To Chief Minister – एक्सीडेंट में रेस्क्यू मामले में सांसद ने की देहरादून पुलिस की तारीफ, मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

0
132


न्यूज़ डेस्क, अमर उजाला, देहरादून
Updated Fri, 28 Aug 2020 12:58 PM IST

डीआईजी अरुण मोहन जोशी
– फोटो : अमर उजाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर कहीं भी, कभी भी।
*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

पिछले माह किमाड़ी मार्ग हादसे में किए गए रेस्क्यू पर सांसद राजीव प्रताप रूड़ी ने दून पुलिस की तारीफ में मुख्यमंत्री को पत्र लिखा है। उन्होंने विशेषकर डीआईजी अरुण मोहन जोशी और एसपी सिटी श्वेता चौबे के सहयोग को सराहा है। इनके अलावा उन्होंने गृह सचिव नितेश कुमार झा, डीजीपी अनिल कुमार रतूड़ी और डीजी कानून व्यवस्था की प्रशंसा की है। मामला चार जुलाई को किमाड़ी मार्ग पर हुए हादसे से संबंधित है। दिल्ली के एक परिवार की कार 300 मीटर गहरी खाई में गिर गई थी। उसमें नीरज त्यागी, उनकी पत्नी शगुन त्यागी, बेटी आरुषि त्यागी व चालक सवार थे। मसूरी से लौटते वक्त जब उनका परिजनों से संपर्क नहीं हुआ तो सांसद राजीव प्रताप रूड़ी ने डीआइजी अरुण मोहन जोशी से इस संबंध में सीधे बात की थी। इसके बाद उन्होंने वहां पर रेस्क्यू अभियान चलवाया। एसपी सिटी श्वेता चौबे के नेतृत्व में वहां करीब 15 घंटे तक ऑपरेशन चला। हालांकि, इस घटना में नीरज त्यागी व पत्नी शगुन त्यागी की मृत्यु हो गई थी। अंत में आरुषि और उनके ड्राइवर को घायल अवस्था में निकाला जा सका था। इस पूरे मामले में अब सांसद रूड़ी ने मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को पत्र लिखा है। उन्होंने डीआईजी अरुण मोहन जोशी के बारे में कहा है कि वे रातभर उनसे बात कर रहे थे।हरेक फोन कॉल का उन्होंने पूरी रात जवाब दिया। उन्होंने लिखा है कि यह किसी भी राज्य की पुलिस के लिए एक उदाहरण बन गया है। इतना त्वरित एक्शन और फिर जटिल परिस्थितियों में रेस्क्यू करना एक बड़ा काम था। उन्होंने विशेषतौर पर एसपी सिटी श्वेता चौबे का नाम लेकर उनकी टीम की प्रशंसा की है। एसपी श्वेता चौबे ही उस वक्त ऑपरेशन का नेतृत्व कर रहीं थीं।पुलिस एकेडमी में पढ़ाएंगे केस स्टडी को सांसद राजीव प्रताप रूड़ी ने पत्र के माध्यम से कहा है कि वे इस केस स्टडी को नेशनल पुलिस एकेडमी में पढ़ाएंगे। क्योंकि, इस जैसा एक्शन और फिर रेस्क्यू उन्होंने पहले कभी नहीं देखा है। यह किसी भी पुलिसकर्मी के लिए एक सीख होनी चाहिए। रूड़ी  नेशनल पुलिस एकेडमी में बीते दो सालों से वार्षिक लेक्चर के लिए जाते हैं।

पिछले माह किमाड़ी मार्ग हादसे में किए गए रेस्क्यू पर सांसद राजीव प्रताप रूड़ी ने दून पुलिस की तारीफ में मुख्यमंत्री को पत्र लिखा है। उन्होंने विशेषकर डीआईजी अरुण मोहन जोशी और एसपी सिटी श्वेता चौबे के सहयोग को सराहा है। इनके अलावा उन्होंने गृह सचिव नितेश कुमार झा, डीजीपी अनिल कुमार रतूड़ी और डीजी कानून व्यवस्था की प्रशंसा की है। 

मामला चार जुलाई को किमाड़ी मार्ग पर हुए हादसे से संबंधित है। दिल्ली के एक परिवार की कार 300 मीटर गहरी खाई में गिर गई थी। उसमें नीरज त्यागी, उनकी पत्नी शगुन त्यागी, बेटी आरुषि त्यागी व चालक सवार थे। मसूरी से लौटते वक्त जब उनका परिजनों से संपर्क नहीं हुआ तो सांसद राजीव प्रताप रूड़ी ने डीआइजी अरुण मोहन जोशी से इस संबंध में सीधे बात की थी। इसके बाद उन्होंने वहां पर रेस्क्यू अभियान चलवाया। एसपी सिटी श्वेता चौबे के नेतृत्व में वहां करीब 15 घंटे तक ऑपरेशन चला। 

हालांकि, इस घटना में नीरज त्यागी व पत्नी शगुन त्यागी की मृत्यु हो गई थी। अंत में आरुषि और उनके ड्राइवर को घायल अवस्था में निकाला जा सका था। इस पूरे मामले में अब सांसद रूड़ी ने मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को पत्र लिखा है। उन्होंने डीआईजी अरुण मोहन जोशी के बारे में कहा है कि वे रातभर उनसे बात कर रहे थे।

हरेक फोन कॉल का उन्होंने पूरी रात जवाब दिया। उन्होंने लिखा है कि यह किसी भी राज्य की पुलिस के लिए एक उदाहरण बन गया है। इतना त्वरित एक्शन और फिर जटिल परिस्थितियों में रेस्क्यू करना एक बड़ा काम था। उन्होंने विशेषतौर पर एसपी सिटी श्वेता चौबे का नाम लेकर उनकी टीम की प्रशंसा की है। एसपी श्वेता चौबे ही उस वक्त ऑपरेशन का नेतृत्व कर रहीं थीं।पुलिस एकेडमी में पढ़ाएंगे केस स्टडी को सांसद राजीव प्रताप रूड़ी ने पत्र के माध्यम से कहा है कि वे इस केस स्टडी को नेशनल पुलिस एकेडमी में पढ़ाएंगे। क्योंकि, इस जैसा एक्शन और फिर रेस्क्यू उन्होंने पहले कभी नहीं देखा है। यह किसी भी पुलिसकर्मी के लिए एक सीख होनी चाहिए। रूड़ी  नेशनल पुलिस एकेडमी में बीते दो सालों से वार्षिक लेक्चर के लिए जाते हैं।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here