Jain Couple Murder Case: Hearing On Pappu Girdhari’s Case Transfer Application Postponed – जैन दंपती हत्याकांडः पप्पू गिरधारी की केस स्थानांतरण अर्जी पर सुनवाई टली

0
50


ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

वारंट जारी होने के बाद लगाई थी अर्जी, अब 27 को होगी सुनवाईउत्तराखंड की कैबिनेट मंत्री रेखा आर्या के पति हैं पप्पू गिरधारी
बरेली। शहर के बहुचर्चित जैन दंपती हत्याकांड का मुकदमा स्थानांतरित करने को लगाई गई अर्जी पर सुनवाई जिला जज के न होने के कारण बुधवार को टल गई। अब इस मामले में 27 अगस्त की तारीख तय की गई है। केस स्थानांतरण की अर्जी इस मामले के अभियुक्त उत्तराखंड की कैबिनेट मंत्री रेखा आर्या के पति पप्पू गिरधारी की ओर से लगाई गई थी।उल्लेखनीय है कि 31 साल पहले नरेश जैन और उनकी पत्नी पुष्पा जैन की सिविल लाइंस स्थित आवास पर गर्दन काटकर हत्या कर दी गई थी। इसका मुकदमा कोर्ट में विचाराधीन है। मुकदमे में पप्पू गिरधारी समेत 12 अभियुक्त बनाए गए थे। इनमें से कुछ की मौत हो चुकी है। पप्पू गिरधारी के कोर्ट में हाजिर न होने के चलते 29 जुलाई और फिर पांच अगस्त को गैर जमानती वारंट जारी कर दिया गया था। इस पर अभियुक्त की ओर से उसके वकील ने कोर्ट में हाजिरी माफी की अर्जी देकर कहा कि अभियुक्त को बुखार होने के कारण उन्होंने ही अदालत में हाजिर होने से रोक दिया था। अर्जी में यह भी कहा गया कि अभियुक्त को कोरोना होने के कारण उसकी इम्युनिटी भी कमजोर है। साथ ही हाईकोर्ट के आदेश का हवाला दिया गया, जिसमें कोरोना काल के चलते मुकदमों में विपरीत आदेश पारित न करने का निर्देश है। इस अर्जी को सुनवाई के बाद कोर्ट ने खारिज कर दिया और पप्पू गिरधारी के खिलाफ वारंट जारी कर दिया।इसके बाद पप्पू गिरधारी की ओर केस को अपर सत्र न्यायाधीश की अदालत से किसी अन्य कोर्ट में स्थानांतरित करने के लिए जिला जज की अदालत में अर्जी लगाई गई। बुधवार 18 अगस्त को इस पर सुनवाई होनी थी। मगर जिला जज के अवकाश पर होने के चलते इस पर सुनवाई नहीं हो सकी। अब अर्जी पर सुनवाई के लिए 27 अगस्त की तारीख निर्धारित की गई है।
कोर्ट से गुम हो गई थी मुकदमे की पत्रावली
मुकदमे की सुनवाई के दौरान जैन दंपती हत्याकांड से जुड़ी पत्रावली वर्ष 2013 में गुम हो गई। इसके बाद जिला जज के आदेश पर पत्रावली दोबारा तैयार करने की प्रक्रिया शुरू हुई। इसमें कहा गया कि मुकदमे से जुड़े वादी और आरोपी पक्ष के पास जो भी दस्तावेज उपलब्ध हों, वे कोर्ट को उपलब्ध करा दिए जाएं। तब से ही इस पत्रावली के दस्तावेज जुटाकर उसे तैयार करने के प्रयास किए जा रहे हैं। इस हत्याकांड की वजह संपत्ति विवाद था। इसके चलते कोर्ट ने दिल्ली में किए गए बैनामों की जानकारी भी तलब की है।
20 अगस्त को होगी मुकदमे की सुनवाई
जैन दंपती हत्याकांड की सुनवाई अपर सत्र न्यायाधीश अब्दुल कय्यूम की अदालत में चल रही है। अगली सुनवाई के लिए इसमें 20 अगस्त की तारीख निर्धारित है।

वारंट जारी होने के बाद लगाई थी अर्जी, अब 27 को होगी सुनवाई

उत्तराखंड की कैबिनेट मंत्री रेखा आर्या के पति हैं पप्पू गिरधारी
बरेली। शहर के बहुचर्चित जैन दंपती हत्याकांड का मुकदमा स्थानांतरित करने को लगाई गई अर्जी पर सुनवाई जिला जज के न होने के कारण बुधवार को टल गई। अब इस मामले में 27 अगस्त की तारीख तय की गई है। केस स्थानांतरण की अर्जी इस मामले के अभियुक्त उत्तराखंड की कैबिनेट मंत्री रेखा आर्या के पति पप्पू गिरधारी की ओर से लगाई गई थी।

उल्लेखनीय है कि 31 साल पहले नरेश जैन और उनकी पत्नी पुष्पा जैन की सिविल लाइंस स्थित आवास पर गर्दन काटकर हत्या कर दी गई थी। इसका मुकदमा कोर्ट में विचाराधीन है। मुकदमे में पप्पू गिरधारी समेत 12 अभियुक्त बनाए गए थे। इनमें से कुछ की मौत हो चुकी है। पप्पू गिरधारी के कोर्ट में हाजिर न होने के चलते 29 जुलाई और फिर पांच अगस्त को गैर जमानती वारंट जारी कर दिया गया था। इस पर अभियुक्त की ओर से उसके वकील ने कोर्ट में हाजिरी माफी की अर्जी देकर कहा कि अभियुक्त को बुखार होने के कारण उन्होंने ही अदालत में हाजिर होने से रोक दिया था। अर्जी में यह भी कहा गया कि अभियुक्त को कोरोना होने के कारण उसकी इम्युनिटी भी कमजोर है। साथ ही हाईकोर्ट के आदेश का हवाला दिया गया, जिसमें कोरोना काल के चलते मुकदमों में विपरीत आदेश पारित न करने का निर्देश है। इस अर्जी को सुनवाई के बाद कोर्ट ने खारिज कर दिया और पप्पू गिरधारी के खिलाफ वारंट जारी कर दिया।

इसके बाद पप्पू गिरधारी की ओर केस को अपर सत्र न्यायाधीश की अदालत से किसी अन्य कोर्ट में स्थानांतरित करने के लिए जिला जज की अदालत में अर्जी लगाई गई। बुधवार 18 अगस्त को इस पर सुनवाई होनी थी। मगर जिला जज के अवकाश पर होने के चलते इस पर सुनवाई नहीं हो सकी। अब अर्जी पर सुनवाई के लिए 27 अगस्त की तारीख निर्धारित की गई है।
कोर्ट से गुम हो गई थी मुकदमे की पत्रावली
मुकदमे की सुनवाई के दौरान जैन दंपती हत्याकांड से जुड़ी पत्रावली वर्ष 2013 में गुम हो गई। इसके बाद जिला जज के आदेश पर पत्रावली दोबारा तैयार करने की प्रक्रिया शुरू हुई। इसमें कहा गया कि मुकदमे से जुड़े वादी और आरोपी पक्ष के पास जो भी दस्तावेज उपलब्ध हों, वे कोर्ट को उपलब्ध करा दिए जाएं। तब से ही इस पत्रावली के दस्तावेज जुटाकर उसे तैयार करने के प्रयास किए जा रहे हैं। इस हत्याकांड की वजह संपत्ति विवाद था। इसके चलते कोर्ट ने दिल्ली में किए गए बैनामों की जानकारी भी तलब की है।
20 अगस्त को होगी मुकदमे की सुनवाई
जैन दंपती हत्याकांड की सुनवाई अपर सत्र न्यायाधीश अब्दुल कय्यूम की अदालत में चल रही है। अगली सुनवाई के लिए इसमें 20 अगस्त की तारीख निर्धारित है।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here