Exclusive: Uttarakhand Includes Five Most Expensive States In India – अमर उजाला एक्सक्लूसिव: देश के पांच सबसे महंगे राज्यों में शामिल हुआ उत्तराखंड

0
110


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, देहरादून

Updated Wed, 16 Sep 2020 02:24 AM IST

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर

कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹365 & To get 20% off, use code: 20OFF

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

पिछले एक साल में उत्तराखंड देश के पांच महंगे राज्यों की सूची में शामिल हो गया है। केंद्रीय सांख्यिकी मंत्रालय की ओर से जारी उपभोक्ता मूल्य सूचकांक से यह तस्वीर उभर कर सामने आई है। उत्तराखंड में महंगाई को सामान्य रूप से मौसम से जोड़ कर देखा जाता है। यह माना जाता है कि मानसून में उपभोक्ता वस्तुओं के दाम बढ़ते ही हैं। केंद्रीय सांख्यिकी मंत्रालय की ओर से 14 सितंबर को जारी रिपोर्ट के मुताबिक प्रदेश में पिछले साल अगस्त माह की तुलना में इस साल अगस्त माह में महंगाई दर में 7.93 प्रतिशत का इजाफा हुआ है। खास बात ये है कि महंगाई दर के मामले में उत्तराखंड देश के पांच शीर्ष राज्यों में शामिल है। वहीं पड़ोसी राज्य हिमाचल महंगाई पर अंकुश लगाने के मामले में उत्तराखंड से बेहतर साबित हुआ है। इसी तरह दिल्ली भी उपभोक्ता वस्तुओं की महंगाई पर नियंत्रण लगाने के मामले में उत्तराखंड से बेहतर ही साबित हुआ है। 

यह भी सामने आया है कि प्रदेश में ग्रामीण क्षेत्रों पर महंगाई की अधिक मार है। ग्रामीण क्षेत्रों में यह दर 8.10 और शहरी क्षेत्रों में 7.68 है। इसका कारण ये भी माना जा रहा है कि ग्रामीण क्षेत्र उपभोक्ता वस्तुओं के मामले में शहरों और परिवहन व्यवस्था पर निर्भर होकर रह गए हैं। ऐसे में इन क्षेत्रों में मानसून के दौरान कीमतों में उछाल आ जाता है। प्रदर्शनों तक सीमित महंगाई का मुद्दा  
महंगाई का मसला प्रदेेश में एक-दो विरोध प्रदर्शनों तक ही सीमित होकर रह जाता है। विशेषज्ञों का कहना है कि कोविड काल में लिया गया सबक इस महंगाई को काबू करने के काम आ सकता है। इस दौर में लोकल के लिए वोकल होने की बात की जा रही है। स्थानीय स्तर पर जरूरतें पूरी होने लगें तो महंगाई पर काबू पाया जा सकता है। 

राज्य                दर
असम –           9.52
पश्चिम बंगाल –  9.44
उड़ीसा –         8.17
तेलंगाना –       8.38
उत्तराखंड –     7.93
उत्तर प्रदेश –   7.03
हिमाचल –      4.18
दिल्ली –         3.58

सार
पिछले एक साल में 7.93 प्रतिशत बढ़ गई महंगाई

विस्तार

पिछले एक साल में उत्तराखंड देश के पांच महंगे राज्यों की सूची में शामिल हो गया है। केंद्रीय सांख्यिकी मंत्रालय की ओर से जारी उपभोक्ता मूल्य सूचकांक से यह तस्वीर उभर कर सामने आई है। 

उत्तराखंड में महंगाई को सामान्य रूप से मौसम से जोड़ कर देखा जाता है। यह माना जाता है कि मानसून में उपभोक्ता वस्तुओं के दाम बढ़ते ही हैं। केंद्रीय सांख्यिकी मंत्रालय की ओर से 14 सितंबर को जारी रिपोर्ट के मुताबिक प्रदेश में पिछले साल अगस्त माह की तुलना में इस साल अगस्त माह में महंगाई दर में 7.93 प्रतिशत का इजाफा हुआ है। 

खास बात ये है कि महंगाई दर के मामले में उत्तराखंड देश के पांच शीर्ष राज्यों में शामिल है। वहीं पड़ोसी राज्य हिमाचल महंगाई पर अंकुश लगाने के मामले में उत्तराखंड से बेहतर साबित हुआ है। इसी तरह दिल्ली भी उपभोक्ता वस्तुओं की महंगाई पर नियंत्रण लगाने के मामले में उत्तराखंड से बेहतर ही साबित हुआ है। 

ग्रामीण क्षेत्रों में अधिक बढ़ी महंगाई..

यह भी सामने आया है कि प्रदेश में ग्रामीण क्षेत्रों पर महंगाई की अधिक मार है। ग्रामीण क्षेत्रों में यह दर 8.10 और शहरी क्षेत्रों में 7.68 है। इसका कारण ये भी माना जा रहा है कि ग्रामीण क्षेत्र उपभोक्ता वस्तुओं के मामले में शहरों और परिवहन व्यवस्था पर निर्भर होकर रह गए हैं। ऐसे में इन क्षेत्रों में मानसून के दौरान कीमतों में उछाल आ जाता है। प्रदर्शनों तक सीमित महंगाई का मुद्दा  
महंगाई का मसला प्रदेेश में एक-दो विरोध प्रदर्शनों तक ही सीमित होकर रह जाता है। विशेषज्ञों का कहना है कि कोविड काल में लिया गया सबक इस महंगाई को काबू करने के काम आ सकता है। इस दौर में लोकल के लिए वोकल होने की बात की जा रही है। स्थानीय स्तर पर जरूरतें पूरी होने लगें तो महंगाई पर काबू पाया जा सकता है। 

महंगाई दर 

राज्य                दर
असम –           9.52
पश्चिम बंगाल –  9.44
उड़ीसा –         8.17
तेलंगाना –       8.38
उत्तराखंड –     7.93
उत्तर प्रदेश –   7.03
हिमाचल –      4.18
दिल्ली –         3.58

आगे पढ़ें

ग्रामीण क्षेत्रों में अधिक बढ़ी महंगाई..



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here