Coronavirus In Uttarakhand Latest Update Today: Health Care Workers Will Get Data To Apply Corona Vaccine – Coronavirus In Uttarakhand: कोरोना टीका लगाने को हेल्थ केयर वर्करों का बनेगा डाटा

0
171


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, देहरादून

Updated Sun, 25 Oct 2020 12:18 PM IST

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर

कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

कोरोना टीका लगाने के लिए प्रदेश के सभी सरकारी व निजी अस्पतालों में कार्यरत हेल्थ केयर वर्करों का डाटा तैयार कर केंद्र को भेजा जाएगा। शनिवार को सचिव स्वास्थ्य अमित सिंह नेगी ने वीडियो कांफ्रेंसिंग बैठक में सभी जिलों के जिलाधिकारी, सीडीओ व सीएमओ को निर्देश दिए कि केंद्र की गाइडलाइन के अनुसार सरकारी व निजी अस्पतालों में कार्यरत हेल्थ केयर वर्करों का डाटा बेस तैयार किया जाए।सचिव स्वास्थ्य ने कहा कि डाटा तैयार करने के लिए जिला व ब्लाक स्तर पर टास्क फोर्स का गठन किया गया है। टास्क फोर्स के सभी सदस्यों को हेल्थ वर्करों का डाटा बेस तैयार करने का प्रशिक्षण भी दिया जाएगा। उन्होंने निर्देश दिए कि डाटा तैयार करने में गैर सरकारी इकाईयों का सहयोग लिया जाए। यह भी पढ़ें: देहरादून: कोरोना बीमारी के बीच स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को ढूढ़े नहीं मिल रहे डेंगू मच्छरबैठक में डाटा बेस से संबंधित किसी भी तरह की जानकारी के लिए एनएचएम में तैनात डॉ. कुलदीप सिंह मार्तोलिया को जिम्मेदारी सौंपी गई है। सचिव ने कहा कि केंद्र के दिशानिर्देश के अनुसार कोरोना का टीका सबसे पहले स्वास्थ्य सेवा में कार्यरत कर्मचारियों को लगाया जाएगा।

स्वास्थ्य कर्मियों का डाटा तैयार करने के लिए एनएचएम मिशन निदेशक सोनिका को राज्य नोडल अधिकारी नामित किया गया है। जबकि राज्य प्रतिरक्षण अधिकारी समन्वयक के रूप में कार्य करेंगे। बैठक में प्रभारी सचिव डॉ. पंकज कुमार पांडेय, एनएचएम मिशन निदेशक सोनिका, स्वास्थ्य महानिदेशक डॉ. अमिता उप्रेती, एनएचम के अपर मिशन निदेशक डॉ. अभिषेक त्रिपाठी, राज्य प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ. कुलदीप सिंह मार्तोलिया आदि मौजूद थे।प्रदेश के सरकारी व निजी अस्पतालों में फ्रंट लाइन हेल्थ वर्कर, आशा, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, डॉक्टर, नर्स, पैरामेडिकल स्टाफ की संख्या एक लाख से अधिक है। सबसे पहले इन्हें कोरोना टीका लगाया जाएगा। 

सार
सरकारी व निजी अस्पतालों के सभी हेल्थ वर्करों का मांगा रिकॉर्ड
सचिव स्वास्थ्य ने वीडियो कांफ्रेंसिंग से सभी जिलों को दिए निर्देश

विस्तार

कोरोना टीका लगाने के लिए प्रदेश के सभी सरकारी व निजी अस्पतालों में कार्यरत हेल्थ केयर वर्करों का डाटा तैयार कर केंद्र को भेजा जाएगा। शनिवार को सचिव स्वास्थ्य अमित सिंह नेगी ने वीडियो कांफ्रेंसिंग बैठक में सभी जिलों के जिलाधिकारी, सीडीओ व सीएमओ को निर्देश दिए कि केंद्र की गाइडलाइन के अनुसार सरकारी व निजी अस्पतालों में कार्यरत हेल्थ केयर वर्करों का डाटा बेस तैयार किया जाए।

सचिव स्वास्थ्य ने कहा कि डाटा तैयार करने के लिए जिला व ब्लाक स्तर पर टास्क फोर्स का गठन किया गया है। टास्क फोर्स के सभी सदस्यों को हेल्थ वर्करों का डाटा बेस तैयार करने का प्रशिक्षण भी दिया जाएगा। उन्होंने निर्देश दिए कि डाटा तैयार करने में गैर सरकारी इकाईयों का सहयोग लिया जाए। 

यह भी पढ़ें: देहरादून: कोरोना बीमारी के बीच स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को ढूढ़े नहीं मिल रहे डेंगू मच्छरबैठक में डाटा बेस से संबंधित किसी भी तरह की जानकारी के लिए एनएचएम में तैनात डॉ. कुलदीप सिंह मार्तोलिया को जिम्मेदारी सौंपी गई है। सचिव ने कहा कि केंद्र के दिशानिर्देश के अनुसार कोरोना का टीका सबसे पहले स्वास्थ्य सेवा में कार्यरत कर्मचारियों को लगाया जाएगा।

एक लाख हेल्थ वर्करों को सबसे पहले लगेगा टीका

स्वास्थ्य कर्मियों का डाटा तैयार करने के लिए एनएचएम मिशन निदेशक सोनिका को राज्य नोडल अधिकारी नामित किया गया है। जबकि राज्य प्रतिरक्षण अधिकारी समन्वयक के रूप में कार्य करेंगे। बैठक में प्रभारी सचिव डॉ. पंकज कुमार पांडेय, एनएचएम मिशन निदेशक सोनिका, स्वास्थ्य महानिदेशक डॉ. अमिता उप्रेती, एनएचम के अपर मिशन निदेशक डॉ. अभिषेक त्रिपाठी, राज्य प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ. कुलदीप सिंह मार्तोलिया आदि मौजूद थे।प्रदेश के सरकारी व निजी अस्पतालों में फ्रंट लाइन हेल्थ वर्कर, आशा, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, डॉक्टर, नर्स, पैरामेडिकल स्टाफ की संख्या एक लाख से अधिक है। सबसे पहले इन्हें कोरोना टीका लगाया जाएगा। 

आगे पढ़ें

एक लाख हेल्थ वर्करों को सबसे पहले लगेगा टीका



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here