Coronavirus In Uttarakhand Latest News: 278 New Infected, 10 Death, Number Of Patients Crossed 8900 – Corona In Uttarakhand: शुक्रवार को 278 नए संक्रमित मिले, 10 की मौत, मरीजों की संख्या 8900 पार

0
140


पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर कहीं भी, कभी भी।
*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण के मामलों का ग्राफ दिन पर दिन तेजी से बढ़ रहा है। शुक्रवार को 278 नए संक्रमित मरीज मिले हैं। इन्हें मिला कर प्रदेश में संक्रमित मरीजों की संख्या 8901 पहुंच गई है। वहीं, आज प्रदेश में 10 कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत हुई है। दून मेडिकल कॉलेज में चार, एम्स ऋषिकेश में तीन और सुशीला तिवारी मेडिकल कॉलेज हल्द्वानी में तीन संक्रमितों ने दमतोड़ा है। प्रदेश में अब तक 112 संक्रमितों की मौत हो चुकी है। जबकि, 3020 एक्टिव केस हैं।स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी हेल्थ बुलेटिन के अनुसार शुक्रवार को आई जांच रिपोर्ट में 7408 सैंपल निगेटिव पाए गए हैं। ऊधमसिंह नगर जिले में 85 कोरोना संक्रमित मिले हैं। इनमें एक रूस, एक बनारस, दो नोएडा, एक गाजियाबाद, एक लद्दाख, एक दिल्ली, तीन बरेली, एक हरियाणा, एक गुरुग्राम, एक पीलीभीत, दो पंजाब, दो नेपाल, एक मध्य प्रदेश से आया है। वहीं एक प्रसव पूर्व जांच के लिए आई महिला और 48 मरीज संपर्क में आने से कोरोना की चपेट में आए हैं। यह भी पढ़ें: Corona : अस्पताल से भागे कोरोना संक्रमित का शव बाथरूम में मिला, हड़कंप, मजिस्ट्रेटी जांच के आदेशहरिद्वार जिले में 73 कोरोना मरीज मिले हैं। इनमें 33 संपर्क में आए और 40 की ट्रेवल हिस्ट्री नहीं है। नैनीताल जिले में 34 मरीज संपर्क में आए हैं। पौड़ी जिले में 25 संक्रमितों में तीन दिल्ली, 17 संपर्क में आए और पांच की ट्रेवल हिस्ट्री नहीं है। देहरादून जिले में 21 संक्रमित मरीजों की ट्रेवल हिस्ट्री नहीं है।टिहरी जिले में 16 संक्रमितों की ट्रेवल हिस्ट्री नहीं है।  पिथौरागढ़ और उत्तरकाशी जिले में छह-छह संक्रमित मरीज मिले हैं। चंपावत जिले में सात संक्रमितों में पांच एसएसबी के जवान हैं। एक रूस से आया है और एक मरीज की ट्रेवल हिस्ट्री नहीं है। रुद्रप्रयाग जिले में चार और चमोली जिले में एक संक्रमित मरीज मिला है। 
जिला                      संक्रमितऊधमसिंह नगर            85हरिद्वार                       73नैनीताल                      34पौड़ी                           25देहरादून                      21टिहरी                         16चंपावत                        07पिथौरागढ़                    06उत्तरकाशी                   06रुद्रप्रयाग                     04चमोली                        01
दून में कोरोना मरीजों का डबलिंग रेट 32 दिन हो गया है, जबकि कुछ दिन पहले यह 19 दिन था। वहीं, एक्टिव केस के मामले में प्रदेश के मैदानी इलाकों में दून चौथे पायदान पर बरकरार है। इसके अलावा निजी अस्पतालों में संक्रमित के आने पर उन्हें तत्काल इलाज करना होगा। पहले वह कोरोना के इलाज के लिए तय अस्पताल में मरीजों को रेफर करते थे। शुक्रवार को जिलाधिकारी डॉ. आशीष कुमार श्रीवास्तव ने यह बातें एनआईसी सभागार में पत्रकारवार्ता में कही। कहा कि जिले में संक्रमण का डबलिंग रेट भी 19 से बढ़कर 32 हो गया है। संक्रमण को लेकर प्रदेश के मैदानी जिलों में दून की स्थिति में सुधार हुआ है। जिले में मौजूदा समय में 366 एक्टिव केस हैं। नैनीताल में 577, ऊधमसिंह नगर में 790 और हरिद्वार में 732 एक्टिव केस हैं।दून में सबसे अधिक 40202 कोरोना टेस्ट हुए हैं। हरिद्वार में 27901, ऊधमसिंह नगर में 29616 व नैनीताल में 18161 टेस्ट हुए हैं। डीएम ने कहा कोरोना को लेकर आईटीबीपी के जवानों पर नजर है। जिले में करीब तीन हजार बेड उपलब्ध हैं। ऐसे में इलाज को लेकर किसी भी तरह की दिक्कत नहीं आएगी। इसके अलावा दो एडवांस लाइफ सपोर्ट वाली एंबुलेंस भी आ रही हैं। 
अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में विभिन्न गंभीर बीमारियों से ग्रसित चार कोविड पॉजिटिव मरीजों की मौत हो गई। इसके अलावा 25 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इनमें चार स्थानीय लोग भी शामिल हैं।एम्स के जनसंपर्क अधिकारी हरीश मोहन थपलियाल ने बताया कि बिजनौर उत्तर प्रदेश निवासी 70 वर्षीय महिला 31 जुलाई को एम्स में मूत्र संबंधी रोग व सूखी खांसी की शिकायत के साथ एम्स में आई थी, जिसे चिकित्सकों ने भर्ती होने की सलाह दी थी, मगर महिला के परिजनों ने उसे भर्ती नहीं कराया और वापस घर ले गए। तबीयत ज्यादा बिगड़ने पर परिजनों ने महिला को चार अगस्त को एम्स में भर्ती कराया। बृहस्पतिवार की शाम उपचार के दौरान मौत हो गई। महिला पॉजिटिव पाई गई थी।पश्चिमी चंपारण, बिजनौर निवासी 25 वर्षीय युवक चार अगस्त को तेज बुखार, पेट व सिर में दर्द, उल्टी एवं एक्यूटपेनक्रियाटाइटिस की शिकायत के साथ एम्स में आया था। सैंपल पॉजिटिव पाए जाने पर उसे कोविड वार्ड में भर्ती किया गया था।जहां बृहस्पतिवार शाम उसकी उपचार के दौरान मौत हो गई। ज्वालापुर हरिद्वार निवासी 70 वर्षीय पुरुष 6 अगस्त को एम्स इमरजेंसी में आया था। जांच में उक्त व्यक्ति की रिपोर्ट कोविड पॉजिटिव आई। उपचार के दौरान उक्त व्यक्ति की मौत हो गई। वहीं 24 जुलाई को हरिद्वार से रेफर होकर आए एक 65 वर्षीय बुजुर्ग को पिछले तीन दिनों से दस्त, बुखार व पेट में दर्द की शिकायत थी। कोविड पॉजिटिव बुजुर्ग की छह अगस्त की रात उपचार के दौरान मौत हो गई।
राजकीय दून मेडिकल अस्पताल में प्लाज्मा थेरेपी मशीन लगा दी गई है। प्लाज्मा थेरेपी से कोरोना के इलाज के लिए केंद्र सरकारी की मंजूरी का इंतजार है। यह मशीन दून अस्पताल के ब्लड बैंक में लगाई गई है। इस थेरेपी के तहत स्वस्थ हो चुके कोरोना के मरीज स्वेच्छा से प्लाज्मा दान कर सकते हैं।इन लोगों के रक्त से मशीन की मदद से प्लाज्मा निकालकर संक्रमित मरीजों को चढ़ाया जाएगा। राजकीय दून मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ. आशुतोष सयाना ने बताया कि मशीन को इंस्टाल कर दिया गया है।जल्द ही केंद्र सरकार से अनुमति मिलने की उम्मीद है। उन्होंने अपील की है कि ऐसे कोरोना संक्रमित मरीज जो स्वस्थ हो चुके हैं और अन्य किसी बीमारी से पीड़ित न हों आने वाले दिनों में स्वेच्छा से प्लाज्मा दान कर दूसरे मरीजों की जान बचाने में मदद कर सकते हैं।

उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण के मामलों का ग्राफ दिन पर दिन तेजी से बढ़ रहा है। शुक्रवार को 278 नए संक्रमित मरीज मिले हैं। इन्हें मिला कर प्रदेश में संक्रमित मरीजों की संख्या 8901 पहुंच गई है। वहीं, आज प्रदेश में 10 कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत हुई है। दून मेडिकल कॉलेज में चार, एम्स ऋषिकेश में तीन और सुशीला तिवारी मेडिकल कॉलेज हल्द्वानी में तीन संक्रमितों ने दमतोड़ा है। प्रदेश में अब तक 112 संक्रमितों की मौत हो चुकी है। जबकि, 3020 एक्टिव केस हैं।

स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी हेल्थ बुलेटिन के अनुसार शुक्रवार को आई जांच रिपोर्ट में 7408 सैंपल निगेटिव पाए गए हैं। ऊधमसिंह नगर जिले में 85 कोरोना संक्रमित मिले हैं। इनमें एक रूस, एक बनारस, दो नोएडा, एक गाजियाबाद, एक लद्दाख, एक दिल्ली, तीन बरेली, एक हरियाणा, एक गुरुग्राम, एक पीलीभीत, दो पंजाब, दो नेपाल, एक मध्य प्रदेश से आया है। वहीं एक प्रसव पूर्व जांच के लिए आई महिला और 48 मरीज संपर्क में आने से कोरोना की चपेट में आए हैं। 

यह भी पढ़ें: Corona : अस्पताल से भागे कोरोना संक्रमित का शव बाथरूम में मिला, हड़कंप, मजिस्ट्रेटी जांच के आदेशहरिद्वार जिले में 73 कोरोना मरीज मिले हैं। इनमें 33 संपर्क में आए और 40 की ट्रेवल हिस्ट्री नहीं है। नैनीताल जिले में 34 मरीज संपर्क में आए हैं। पौड़ी जिले में 25 संक्रमितों में तीन दिल्ली, 17 संपर्क में आए और पांच की ट्रेवल हिस्ट्री नहीं है। देहरादून जिले में 21 संक्रमित मरीजों की ट्रेवल हिस्ट्री नहीं है।टिहरी जिले में 16 संक्रमितों की ट्रेवल हिस्ट्री नहीं है।  पिथौरागढ़ और उत्तरकाशी जिले में छह-छह संक्रमित मरीज मिले हैं। चंपावत जिले में सात संक्रमितों में पांच एसएसबी के जवान हैं। एक रूस से आया है और एक मरीज की ट्रेवल हिस्ट्री नहीं है। रुद्रप्रयाग जिले में चार और चमोली जिले में एक संक्रमित मरीज मिला है। 

आज मिले संक्रमित मामले

जिला                      संक्रमितऊधमसिंह नगर            85हरिद्वार                       73नैनीताल                      34पौड़ी                           25देहरादून                      21टिहरी                         16चंपावत                        07पिथौरागढ़                    06उत्तरकाशी                   06रुद्रप्रयाग                     04चमोली                        01

दून का डबलिंग रेट 32 दिन हुआ 

दून में कोरोना मरीजों का डबलिंग रेट 32 दिन हो गया है, जबकि कुछ दिन पहले यह 19 दिन था। वहीं, एक्टिव केस के मामले में प्रदेश के मैदानी इलाकों में दून चौथे पायदान पर बरकरार है। इसके अलावा निजी अस्पतालों में संक्रमित के आने पर उन्हें तत्काल इलाज करना होगा। पहले वह कोरोना के इलाज के लिए तय अस्पताल में मरीजों को रेफर करते थे। शुक्रवार को जिलाधिकारी डॉ. आशीष कुमार श्रीवास्तव ने यह बातें एनआईसी सभागार में पत्रकारवार्ता में कही। कहा कि जिले में संक्रमण का डबलिंग रेट भी 19 से बढ़कर 32 हो गया है। संक्रमण को लेकर प्रदेश के मैदानी जिलों में दून की स्थिति में सुधार हुआ है। जिले में मौजूदा समय में 366 एक्टिव केस हैं। नैनीताल में 577, ऊधमसिंह नगर में 790 और हरिद्वार में 732 एक्टिव केस हैं।दून में सबसे अधिक 40202 कोरोना टेस्ट हुए हैं। हरिद्वार में 27901, ऊधमसिंह नगर में 29616 व नैनीताल में 18161 टेस्ट हुए हैं। डीएम ने कहा कोरोना को लेकर आईटीबीपी के जवानों पर नजर है। जिले में करीब तीन हजार बेड उपलब्ध हैं। ऐसे में इलाज को लेकर किसी भी तरह की दिक्कत नहीं आएगी। इसके अलावा दो एडवांस लाइफ सपोर्ट वाली एंबुलेंस भी आ रही हैं। 

एम्स में 4 कोरोना संक्रमितों की मौत, 25 पॉजिटिव

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में विभिन्न गंभीर बीमारियों से ग्रसित चार कोविड पॉजिटिव मरीजों की मौत हो गई। इसके अलावा 25 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इनमें चार स्थानीय लोग भी शामिल हैं।एम्स के जनसंपर्क अधिकारी हरीश मोहन थपलियाल ने बताया कि बिजनौर उत्तर प्रदेश निवासी 70 वर्षीय महिला 31 जुलाई को एम्स में मूत्र संबंधी रोग व सूखी खांसी की शिकायत के साथ एम्स में आई थी, जिसे चिकित्सकों ने भर्ती होने की सलाह दी थी, मगर महिला के परिजनों ने उसे भर्ती नहीं कराया और वापस घर ले गए। तबीयत ज्यादा बिगड़ने पर परिजनों ने महिला को चार अगस्त को एम्स में भर्ती कराया। बृहस्पतिवार की शाम उपचार के दौरान मौत हो गई। महिला पॉजिटिव पाई गई थी।पश्चिमी चंपारण, बिजनौर निवासी 25 वर्षीय युवक चार अगस्त को तेज बुखार, पेट व सिर में दर्द, उल्टी एवं एक्यूटपेनक्रियाटाइटिस की शिकायत के साथ एम्स में आया था। सैंपल पॉजिटिव पाए जाने पर उसे कोविड वार्ड में भर्ती किया गया था।जहां बृहस्पतिवार शाम उसकी उपचार के दौरान मौत हो गई। ज्वालापुर हरिद्वार निवासी 70 वर्षीय पुरुष 6 अगस्त को एम्स इमरजेंसी में आया था। जांच में उक्त व्यक्ति की रिपोर्ट कोविड पॉजिटिव आई। उपचार के दौरान उक्त व्यक्ति की मौत हो गई। वहीं 24 जुलाई को हरिद्वार से रेफर होकर आए एक 65 वर्षीय बुजुर्ग को पिछले तीन दिनों से दस्त, बुखार व पेट में दर्द की शिकायत थी। कोविड पॉजिटिव बुजुर्ग की छह अगस्त की रात उपचार के दौरान मौत हो गई।

दून अस्पताल में लगी प्लाज्मा थेरेपी मशीन

राजकीय दून मेडिकल अस्पताल में प्लाज्मा थेरेपी मशीन लगा दी गई है। प्लाज्मा थेरेपी से कोरोना के इलाज के लिए केंद्र सरकारी की मंजूरी का इंतजार है। यह मशीन दून अस्पताल के ब्लड बैंक में लगाई गई है। इस थेरेपी के तहत स्वस्थ हो चुके कोरोना के मरीज स्वेच्छा से प्लाज्मा दान कर सकते हैं।इन लोगों के रक्त से मशीन की मदद से प्लाज्मा निकालकर संक्रमित मरीजों को चढ़ाया जाएगा। राजकीय दून मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ. आशुतोष सयाना ने बताया कि मशीन को इंस्टाल कर दिया गया है।जल्द ही केंद्र सरकार से अनुमति मिलने की उम्मीद है। उन्होंने अपील की है कि ऐसे कोरोना संक्रमित मरीज जो स्वस्थ हो चुके हैं और अन्य किसी बीमारी से पीड़ित न हों आने वाले दिनों में स्वेच्छा से प्लाज्मा दान कर दूसरे मरीजों की जान बचाने में मदद कर सकते हैं।

आगे पढ़ें

आज मिले संक्रमित मामले



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here